Amul Milk: Amul golden jubilee celebration के मौके पर अमूल की 77 सालों की सफलता की कहानी

Amul Milk: Amul golden jubilee celebration के मौके पर अमूल की 77 सालों की सफलता की कहानी

Amul golden jubilee celebration :

Amul, जिसका आज हर घर – घर में इस्तमाल होता है, एक लंबे सफर की कहानी है। इस सफर ने नहीं सिर्फ एक ब्रांड को बनाया है, बल्कि एक देश को भी। Amul golden jubilee celebration के मौके पर, हम देखते हैं इस सफर की कुछ खास बातें।

Amul की शुरुआत:

अमूल की कहानी 1946 में एक छोटी सी शुरुआत से शुरू हुई थी। गुजरात सहकारी दुग्ध विपणन महासंघ (GCMMF) ने दुग्ध सहकारी समिति के रूप में अपना सफर शुरू किया था। इस सफर में, देश के गरीब किसानों को उनकी कीमत के हिसाब से दूध बेचने का अवसर मिला।

इसके पहले, किसान दूध बेचने के लिए दलालों के दफ्तर में मजबूर थे, जो उनका दूध कम दाम पर खरीद लेते थे। लेकिन Amul ने इस बदलते समय में एक नया रास्ता दिखाया।

AMOL PRODUCT SRIKHANDA , MITHAI MATE

Amul की सफ़लता की गारंटी:

आज Amul एक ऐसे ब्रांड का नाम है जो पूरे देश में पहचान बना चुका है। इसके अलावा न सिर्फ दूध, बल्कि अमूल के और भी उत्पादों की मांग है। मिल्क पाउडर, स्वास्थ्यवर्धक पेय पदार्थ, घी, मक्खन, पनीर, पिज़्ज़ा चीज़, आइसक्रीम, पनीर, चॉकलेट और पारंपरिक भारतीय मिठाइयों में भी Amul का नाम शामिल है। इस सफर में, Amul ने साबित किया है कि सहकारी मॉडल के लिए जरूरी भी बड़ा कारोबार किया जा सकता है।
AMOL PRODUCTS

Amul की सफ़लता का राज:

Amul की सफलता का राज उसके सहकारी मॉडल में है। GCMMF के अंदर लगभग तीन लाख दूध उत्पादन का सहयोग है।
देश भर में 144,500 डेयरी सहकारी समितियों में से ज्यादा से ज्यादा दूध उत्पादक अपना दूध खरीदते हैं। इस दूध को 184 जिला सहकारी संघ और 22 राज्य विपणन संघ प्रक्रिया करते हैं।

Amul का महत्व:

Amul कंपनी के अनुसर, GCMMF रोज लगभाग 2 करोड़ 60 लाख से ज्यादा लीटर दूध जमा करता है। फिर, ये दूध गुजरात के अलावा दिल्ली-एनसीआर, पश्चिम बंगाल और मुंबई के बाजारों में भी सप्लाई होती है।

एक दिन में, Amul करीब 1 करोड़ 50 लाख लीटर दूध बेचता है, और सिर्फ दिल्ली-एनसीआर में 40 लाख लीटर दूध की रोज की मांग होती है।

Amul का सफर 77 सालों से ज्यादा का है, और ये सफर दिखता है कि एक साथ मिल कर, किसानों और उनके उत्पादों को सहयोग देकर, बड़ी कामयाबी हासिल की जा सकती है। अमूल ने सिर्फ एक ब्रांड नहीं, बल्कि एक देश को भी नया रास्ता दिखाया है।

तो ये थी Amul ki kahani, एक सफलता की और एक देश की। हमारी Amul की यादों को और भी मीठा बनाते हैं!

यह भी पढे :Shiv Jayanti 2024: Chatrapati Shivaji Maharaj Jii ke Anmol Business Lessons

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Instagram Group Join Now

Leave a Comment

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Scroll to Top